Uttarakhand

अब आपके शहर विकासनगर में भी बैठेंगे जाने-माने न्यूरोसर्जन डॉ राहुल अवस्थी, नसों से जुड़ी बीमारियों से मिलेगी निजात

देहरादून। स्वस्थ शरीर के लिए नर्वस सिस्टम का मजबूत रहना जरूरी है। नसें महत्वपूर्ण अंग होती हैं जो शरीर में रक्त संचारित करती हैं। अच्छी सेहत के लिए यह बहुत अहम है। नसें शरीर के अलग-अलग अंगों से होकर गुजरती हैं और जब कोई अंग कमजोर होता है तो इसका असर नसों पर भी होता है। नसों की कमजोरी कई रोगों का कारण बन सकती है, इसलिए समय रहते उपचार करना जरूरी है। देहरादून में नाईस क्लीनिक खुलने के बाद आम जनमानस को कम दामों में उच्च क्वालिटी का ईलाज मिल पा रहा है। यह सब संभव हो पाया है युवा न्यूरोसर्जन डॉ राहुल अवस्थी की सकारात्मक सोच से। देहरादून के बाद अब जनपद के दूरस्थ क्षेत्र के मरीजों को भी नसों से संबधित बीमारियों का इलाज उनके क्षेत्र में ही मिल पायेगा। देहरादून के बाद अब डॉ राहुल अवस्थी विकासनगर के लाइन जीवनगड़ में भी प्रत्येक गुरूवार को न्यूरो की ओपीडी करेंगे। जिसमें वह स्थानीय मरीजों की जांच करेंगे। इसके साथ ही विभिन्न पैथोलॉजी जांचों में उन्होंने 30 प्रतिशत छूट की बात भी कही।

डॉ राहुल अवस्थी का कहना है कि अगर नसें कमजोर हो गई हैं तो शरीर में होने वाले प्रभाव की पहचान जरूरी है ताकि समय पर सही इलाज मिल सके। समय पर लक्षणों को देखकर सही इलाज शुरू कर गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं से बच सकते हैं। डॉ राहुल अवस्थी के मुताबिक, शरीर के कुछ हिस्सों की नसें कमजोर या गतिहीन हो जाती हैं। कुछ लोगों के लिए यह समस्या थोड़े समय के लिए होती है लेकिन कुछ लोगों के लिए यह स्थायी भी हो सकती है। प्रभावित नस के प्रकार के आधार पर या तो नस से संबंधित शरीर का अंग ठीक से काम नहीं कर पाता या इन्सान कुछ महसूस नहीं कर पाता।

डॉ राहुल अवस्थी ने कहा नसों की कमजोरी की सबसे आम वजह है इनमें किसी प्रकार की क्षति, नस विकृत होना, दर्द या सूजन से प्रभावित होना, नर्व सेल्स पर ट्यूमर का विकास, नसों पर विषाक्त पदार्थों का प्रभाव, नसों पर दबाव। नसें कमजोर होने के अन्य कारणों में शामिल हैं- बैक्टीरिया, वायरस के कारण होने वाले इंफेक्शन, ऐसी दवाइयां जो कि नसों को नुकसान पहुंचाए, जन्मजात दोष।

आपको न्यूरोलॉजिस्ट से क्यों मिलना चाहिए?
यदि आप मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी, मांसपेशियों और तंत्रिका तंत्र की जैविक स्थितियों का सामना कर रहे हैं तो आपको डॉक्टर से परामर्श लेने की आवश्यकता हो सकती है। न्यूरोलॉजिस्ट उन संकेतों और स्थितियों की जांच करके रोगियों की सहायता करते हैं जिन्होंने उनकी मानसिक स्थिति को प्रभावित किया है।

यहां छह संकेत दिए गए हैं जो बताते हैं कि न्यूरो स्पेशलिटी अस्पताल जाने का समय आ गया है:-

क्रोनिक सिरदर्द
यदि आपको माइग्रेन का दर्द है, तो आपको संभवतः एक न्यूरोलॉजिस्ट से अपॉइंटमेंट लेना चाहिए, खासकर यदि लक्षण न्यूरोलॉजिकल विकारों से जुड़े हों।

पुराने दर्द
जब आपकी मांसपेशियों में दर्द 10 सप्ताह से अधिक समय तक बना रहता है और आपकी प्राथमिक देखभाल इसे प्रबंधित करने में मदद नहीं कर सकती है, तो आपको एक न्यूरोलॉजिस्ट से मिलने पर विचार करना चाहिए।

चक्कर आना
वर्टिगो (ऐसा महसूस होना जैसे आपका सिर घूम रहा है) या अपना संतुलन बनाए रखने में कठिनाई होना भी किसी गंभीर तंत्रिका संबंधी विकार की ओर इशारा कर सकता है।

स्तब्ध हो जाना या झुनझुनी
लंबे समय तक शरीर के एक हिस्से में सुन्नता या झुनझुनी महसूस होना, जो अक्सर अचानक आता-जाता रहता है, स्ट्रोक या किसी गंभीर स्थिति के कारण हो सकता है।

गति की स्थिति या असंतुलन
असंतुलन या लड़खड़ाहट और अनजाने झटके के कारण चलने में कठिनाई, ये सभी कुछ गंभीर तंत्रिका संबंधी विकारों को दर्शाते हैं।

भ्रम
याददाश्त में कमी या व्यक्तित्व में बदलाव या लड़खड़ाहट अल्जाइमर का संकेत हो सकता है।

एनएच क्यों?
सेरेब्रल स्ट्रोक या ब्रेन अटैक विकलांगता का प्रमुख कारण है और संभवतः भारत में मृत्यु का तीसरा प्रमुख कारण है। हेल्थ में, हम एक नई तकनीक का उपयोग करते हैं जिसे अस्थायी एंडोवास्कुलर बाईपास के रूप में जाना जाता है। ऐसी इंटरवेंशनल न्यूरोलॉजिकल प्रक्रियाएं हैं, जिनका उपयोग तीव्र स्ट्रोक या मिर्गी के इलाज के लिए किया जाता है और विदेशों में बहुत नियमित रूप से अभ्यास किया जाता है। हम स्ट्रोक और इसकी रोकथाम के बारे में जागरूकता बढ़ाने की उम्मीद करते हैं ताकि इलाज के बजाय रोकथाम पर ध्यान केंद्रित किया जा सके। हेल्थ के तहत अस्पतालों का नेटवर्क मिर्गी देखभाल सेवाओं, सेरेब्रल स्ट्रोक कार्यक्रमों के लिए जटिल न्यूरोमस्कुलर विकारों के पुनर्वास और मूल्यांकन सहित व्यापक पैकेज प्रदान करता है, जिसके लिए न्यूरोलॉजिकल विकारों के उपचार के एक अनुशंसित पाठ्यक्रम का पालन किया जाता है।

न्यूरोलॉजिस्ट न्यूरोलॉजिकल विकारों और बीमारियों के रोगियों के इलाज में अनुभवी हैं, जिनमें शामिल हैं:-

ऑटिज्म, सीखने की अक्षमता
मिर्गी, चक्कर आना और बेहोशी
क्रोनिक तनाव या तनाव से संबंधित सिरदर्द, माइग्रेन
लगातार पीठ दर्द और रीढ़ की हड्डी की समस्या
अल्पकालिक स्मृति हानि और मनोभ्रंश
पार्किंसंस रोग, सेरेब्रल स्ट्रोक
कैंसर और ट्यूमर
मेनिनजाइटिस या दिमागी बुखार
स्लीप एपनिया, अर्ध-नींद न आना, अनिद्रा (नींद संबंधी विकार)
तंत्रिका संबंधी मुद्दे (तनाव और तंत्रिका तनाव) और आघात के मामले

न्यूरोलॉजी रोगों के प्रकार
तंत्रिका संबंधी विकार और बीमारियाँ केंद्रीय या परिधीय तंत्रिका तंत्र या दोनों में समस्याओं के कारण होती हैं। वे तंत्रिका तंत्र के एक या कई हिस्सों को प्रभावित कर सकते हैं, जैसे मस्तिष्क, रीढ़ की हड्डी, तंत्रिकाएं, तंत्रिका जड़ें, न्यूरोमस्क्यूलर जंक्शन, स्वायत्त तंत्रिका तंत्र इत्यादि। तंत्रिका संबंधी विकारों के कारण विविध हैं। वे दोषपूर्ण जीन, चोट, कुपोषण, संक्रमण या किसी संक्रमण की प्रतिक्रिया के कारण हो सकते हैं। हेल्थ सभी प्रकार के न्यूरोलॉजिकल विकारों के इलाज के लिए भारत का सबसे अच्छा न्यूरोलॉजी अस्पताल है। न्यूरोलॉजिकल रोग और विकार 600 से अधिक प्रकार के होते हैं।

तंत्रिका तंत्र के विकासात्मक चरणों में समस्याएं जैसे स्पाइना बिफिडा।
आनुवंशिक रोग जैसे मस्कुलर डिस्ट्रॉफी और हंटिंगटन रोग।
अपक्षयी या डिमाइलेटिंग रोग जो समय के साथ तंत्रिका तंत्र की कोशिकाओं को मरने या क्षतिग्रस्त होने का कारण बनते हैं, जैसे कि पार्किंसंस रोग और अल्जाइमर रोग। मस्तिष्क में रक्त की आपूर्ति में समस्या के कारण स्ट्रोक जैसी सेरेब्रोवास्कुलर बीमारी होती है।

स्मृति हानि और मनोभ्रंश
रीढ़ की हड्डी के विकार
वाणी और सीखने संबंधी विकार
सिरदर्द संबंधी विकार जैसे माइग्रेन
बरामदगी
नसें दब गईं
झटके या अनियंत्रित हरकतें
कैंसर
संक्रमणों
नींद संबंधी विकार

इलाज करवाएं
अगर थकान, भारीपन या सूजन जैसे कोई भी लक्षण नजर आएं तो इसे नजरअंदाज न करें। डॉक्टर को दिखाएं ताकि समय पर इलाज शुरू हो सके। कुछ बीमारियों या पोषण की कमी या जीवनशैली से जुड़ी समस्याओं के कारण नसों की कमजोरी हो सकती है। इसकी वजह का इलाज करने से यह समस्या ठीक हो सकती है। इसके लिए दवाएं और अन्य थेरेपी भी उपलब्ध हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk