Thursday, February 9, 2023
Home Uttarakhand भू-धंसाव की चपेट में आए जोशीमठ शहर के लिए आने वाले दिन...

भू-धंसाव की चपेट में आए जोशीमठ शहर के लिए आने वाले दिन हो सकते है खराब साबित, बारिश के चलते हालात और बिगड़ने के आसार

जोशीमठ।  भू-धंसाव की चपेट में आए जोशीमठ शहर के लिए आने वाले दिन और खराब हो सकते हैं। इस बीच यदि बारिश हुई तो हालात और बिगड़ सकते हैं। भू-धंसाव के बाद बनी दरारें और गहरा सकती हैं और पानी के नए स्रोत भी फूट सकते हैं। शासन-प्रशासन भी इस स्थिति को लेकर चिंतित है, लेकिन फिलहाल उसके पास कोई ठोस प्लान तैयार नहीं है। हालांकि मौसम विभाग ने अगले कुछ दिनों में भारी बारिश की आशंका से इनकार किया है। ग्लेशियर के साथ आए मलबे के ढेर में बसा जोशीमठ कभी एक गांव हुआ करता था, जहां पर्वतीय शैली में बने 15-20 घर थे। 1890 में लिए गए एक चित्र में इसकी तस्दीक होती है। लेकिन आज यहां 12390 भवन खड़े हैं, इनमें से कई बहुमंजिला इमारतें हैं, जिनके बोझ से शहर लगातार दबता चला गया। पूर्व में हुए कई भूवैज्ञानिक अध्ययनों में जोशीमठ में बढ़ते दबाव को लेकर हर बार चेतावनी जारी की गई। अब शासन प्रशासन के लोग भी इस बात को मान रहे हैं कि शहर का सुनियोजित ढंग से विकास नहीं हुआ है। यहां खड़े भवन बिना किसी बायलॉज के बने हैं।

सबसे अधिक खतरनाक स्थित पानी की निकासी की है। ड्रेनेज प्लान नहीं होने की वजह से शहर का पानी जमीन में रिसता रहा है। जो अब विभिन्न स्रोतों से बाहर आ रहा है। बारिश होने की स्थिति में जहां लोगों को व्यवहारिक परेशानियों से दो-चार होना पड़ेगा, वहीं दरारों के जरिए जब यह पानी जमीन में प्रवेश करेगा, तब क्या नया गुल खिलाएगा, इसको लेकर फिलहाल स्थिति स्पष्ट नहीं है।

डीबीएस पीजी कॉलेज के पूर्व प्राचार्य और वरिष्ठ भूगर्भ विज्ञानी डॉ. एके बियानी की मानें तो जोशीमठ में अत्यधिक बारिश होने पर भू-धंसाव की गति और बढ़ सकती है। भू-धंसाव के कारण तमाम सेफ्टी टैंक भी लिकेज हुए होंगे, जिनका पानी भी रास्ता तलाशेगा। बारिश का पानी इसके साथ मिलकर नए स्रोतों को जन्म दे सकता है। इससे भू-कटाव बढ़ेगा। जोशीमठ के ज्यादातर ढलान अस्थिर हैं। यह ग्लेशियर के मलब से बने हैं, जिन्हें वैज्ञानिक भाषा में मोरेन कहा जाता है। ऐसी स्थिति में जब पानी को बाहर निकलने का रास्ता मिलता है, तो मिट्टी बह जाती है और बोल्डर के बीच खाली स्थान बन जाता है। इसके कारण जब यह बोल्डर खुद एडजस्ट करते हैं तो जमीन की ऊपरी परत पर दरारें उभर आती हैं।

भू-धंसाव पर बारिश का क्या प्रभाव पड़ेगा और आपकी क्या तैयारी है, इस सवाल के जवाब में जिलाधिकारी हिमांशु खुराना का कहना है कि इसके लिए भू वैज्ञानिक परीक्षण करवाया जाएगा। जहां तक लोगों को तत्काल राहत पहुंचाने की बात है, इसके लिए जिला प्रशासन की ओर से पूरी तैयारी है। जगह-जगह अलाव की व्यवस्था करवाई जा रही है। प्रभावित परिवारों के लिए पर्याप्त संख्या में कंबल, रजाई की व्यवस्था कर दी गई है। प्रभावितों को ठहराने के लिए औली तक व्यवस्था कर दी गई है।

RELATED ARTICLES

एक नौकरशाह ऐसा भी, जो स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए नाप रहा पहाड़ की पगडंड़ी

चम्पावत पहुंचे स्वास्थ्य सचिव डा. आर. राजेश कुमार देहरादून। प्रदेश सरकार पर्वतीय जिलों में लचर स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के लिए लगातार कवायद कर रही है।...

महाराज ने आम बजट को अमृत काल का पहला लोक कल्याणकारी बजट बताया

सामाजिक न्याय, समानता, सम्मान के अलावा समान अवसर उपलब्ध कराने वाला है 2023-24 का बजट उत्तराखंड में रेल सुविधाओं के विकास के लिए 504 करोड...

जिला कार्यसमिति की बैठक में प्रभारी मंत्री रेखा आर्या ने कार्यकर्ताओं में भरा जोश, दिए आगामी चुनावों को लेकर दिशा निर्देश

वर्तमान बजट है सर्वजन हिताय और सर्वजन सुखाय -रेखा आर्या मोदी और धामी के नेतृत्व में प्रदेश का हो रहा चौमुखी विकास-रेखा आर्या केंद्र और राज्य सरकार की...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Latest Post

एक नौकरशाह ऐसा भी, जो स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिए नाप रहा पहाड़ की पगडंड़ी

चम्पावत पहुंचे स्वास्थ्य सचिव डा. आर. राजेश कुमार देहरादून। प्रदेश सरकार पर्वतीय जिलों में लचर स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के लिए लगातार कवायद कर रही है।...

महाराज ने आम बजट को अमृत काल का पहला लोक कल्याणकारी बजट बताया

सामाजिक न्याय, समानता, सम्मान के अलावा समान अवसर उपलब्ध कराने वाला है 2023-24 का बजट उत्तराखंड में रेल सुविधाओं के विकास के लिए 504 करोड...

जिला कार्यसमिति की बैठक में प्रभारी मंत्री रेखा आर्या ने कार्यकर्ताओं में भरा जोश, दिए आगामी चुनावों को लेकर दिशा निर्देश

वर्तमान बजट है सर्वजन हिताय और सर्वजन सुखाय -रेखा आर्या मोदी और धामी के नेतृत्व में प्रदेश का हो रहा चौमुखी विकास-रेखा आर्या केंद्र और राज्य सरकार की...

अडानी ग्रुप के शेयरों में लौटी रौनक, हिंडनबर्ग रिपोर्ट के बाद पहली बार 20 प्रतिशत तक चढ़ गए भाव

नई दिल्ली। अडानी ग्रुप के शेयरों में मंगलवार को रौनक लौट आई। ग्रुप की 10 लिस्टेड कंपनियों में से 8 में बढ़त के साथ कारोबार...

मुख्य सचिव एसएस संधु ने नैनी सैनी एयरपोर्ट एवं पिथौरागढ़ स्थित बेस चिकित्सालय भवन का किया स्थलीय निरीक्षण

पिथोरागढ़।  मुख्य सचिव ने सर्वप्रथम नैनी सैनी एयरपोर्ट का स्थलीय निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया। इस दौरान जिलाधिकारी द्वारा नैनी सैनी हवाई पट्टी के...

तुर्की में आज फिर भूकंप, मरने वालों की संख्या 4000 के पार, हर तरफ तबाही ही तबाही

इस्तांबुल। तुर्की में आज फिर से भूकंप के झटके लगे हैं। यह भूकंप सेंट्रल तुर्की में आया है जहां उसकी तीव्रता 5.6 रही। वहीं तुर्की-सीरिया...

कैसे हर कारोबार में सफल हो जाते हैं गौतम अडाणी? लोकसभा में राहुल ने केंद्र पर जमकर साधा निशाना

नई दिल्ली। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान लोक सभा में विपक्ष की तरफ से पहले वक्ता के तौर पर बोलते...

बहती नाक से पीडि़त हैं तो अपनाएं ये 5 घरेलू नुस्खे, जल्द मिलेगा आराम

बहती नाक से पीडि़त हैं तो अपनाएं ये 5 घरेलू नुस्खे, जल्द मिलेगा आराम इस बदलते मौसम में तापमान और नमी में बदलाव के कारण...

हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड की वार्षिक परीक्षाओं में कम परिणाम देने वाले शिक्षकों की जवाबदेही होगी तय

हिमाचल। प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड की वार्षिक परीक्षाओं में कम परिणाम देने वाले शिक्षकों की जवाबदेही तय होगी। 10वीं और 12वीं कक्षा की परीक्षाएं शुरू...

सिंघम अगेन में अक्षय कुमार की एंट्री, सूर्यवंशी बन लौटेंगे अभिनेता

अक्षय कुमार आने वाले दिनों में कई फिल्मों में अपनी मौजूदगी दर्ज कराएंगे। अब एक और सुपरहिट फिल्म उनके खाते से जुड़ गई है।...