Uttarakhand

स्वास्थ्य विभाग की सेहत सुधारने में जुटे सीएम धामी, अकर्मण्य अफसरों पर गिराई गाज, कोताही और ढ़िलाई नहीं करेंगे बर्दाश्त

– आयुष्मान के अरुणेंद्र चौहान के बाद प्राधिकरण के चेयरमैन कोटिया की भी विदाई

देहरादून। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अब फ्रंट फुट पर खेल रहे हैं। स्वास्थ्य महकमे में लचर कार्यप्रणाली वाले अफसरों को हटा कर वहां एक स्वस्थ और कर्मठ अधिकारियों की तैनाती करने की व्यवस्था की जा रही है। महकमे में सफाई अभियान की शुरुआत राज्य स्वास्थ्य प्राधिकरण से की जा रही है। प्राधिकरण के चेयरमैन डी के कोटिया ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। डी के कोटिया लंबे समय से प्राधिकरण में जमे थे और उनकी कार्यप्रणाली से मुख्यमंत्री खुश नहीं थे। चर्चा है कि शासन का रुख भांपते हुए कोटिया ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया।

गौरतलब है कि एक सप्ताह में प्राधिकरण से यह दूसरी विकेट गिरी है। इससे पहले आयुष्मान कार्ड के राज्य प्रमुख अरुणेंद्र चौहान को भी उनके पद से हटा दिया गया। सूत्रों के मुताबिक सीएम धामी स्वास्थ्य विभाग में खुद रुचि ले रहे हैं। उन्होंने स्वास्थ्य प्राधिकरण को और अधिक कर्मठ और कारगर बनाने की दिशा में यह कवायद की है। अरुणेंद्र चौहान और चेयरमैन डी के कोटिया की ही तैनाती त्रिवेंद्र काल मे हुई थी। इन दोनों को एक पूर्व सीएम और उनकी बेटी का भी करीबी बताया जाता है।

बता दें कि स्वस्थ्य प्राधिकरण के पास आयुष्मान भारत एवं आयुष्मान उत्तराखंड योजना के संचालन का जिम्मा है। सूत्रों के मुताबिक आयुष्मान योजना से निजी अस्पतालों को जोड़ने या हटाने की जिम्मेदारी भी प्राधिकरण को है। प्राधिकरण के इस अधिकार को लेकर भी बाजार में अलग-अलग चर्चा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk