Uttarakhand

एसजीआरआर काॅलेज ऑफ नर्सिंग के नेशनल सेमीनार में स्वास्थ्य देखभाल प्रणांली में गुणवत्ता सुधार पर हुआ मंथन

एसजीआरआर का ई.एस.काॅलेज ऑफ नर्सिंग चेन्नई एवम् नूतन काॅलेज ऑफ नर्सिंग गुजरात के साथ एमओयू
देहरादून। श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय एसजीआरआआईएमण्डएचएस काॅलेज ऑफ नर्सिंग की ओर से दो दिवसीय नेशनल सेमीनार का आयोजन किया गया। स्वास्थ्य देखभाल प्रणांली में गुणवत्ता सुधार विषय पर आयोजित नेशनल सेमीनार में विभिन्न राज्यों से आए 300 प्रतिभागियों ने प्रतिभाग किया। तमिलनाडू, गुजरात, उत्तर प्रदेश व उत्तराखण्ड के विभिन्न हिस्सों से पहुंचे विषय विशेषज्ञों ने एक सुर में स्वास्थ्य देखभाल प्रणांली को सर्वोच्च शिखर तक पहुचाने में सहायक महत्वपूर्णं बिन्दुओं पर विचार सांझा किए। इस अवसर पर एसजीआरआर काॅलेज ऑफ नर्सिंग ने ई.एस.काॅलेज ऑफ नर्सिंग चेन्नई एवम्  नूतन काॅलेज ऑफ नर्सिंग गुजरात के साथ एमओयू भी साइन किया। एक्सचेंज प्रोग्राम के अन्तर्गत एसजीआरआर काॅलेज ऑफ नर्सिंग इन दोनों काॅलेजों के साथ आधुनिक शोध एवम् अनुसंधान के विभिन्न विषयों पर मिलकर कार्य करेगा।
शुक्रवार को श्री गुरु राम राय इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एण्ड हैल्थ साइंसेज़ के सभागार में राष्ट्रीय सेमीनार का शुभारंभ मुख्य अतिथि श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय के कुलसचिव डाॅ अजय कुमार खण्डूड़ी, उत्तराखण्ड नर्सेज़ काउंसिल की कुलसचिव मनीषा ध्यानी व एसजीआरआर काॅलेज ऑफ नर्सिंग की डीन डाॅ रामालक्ष्मी ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलन कर किया। एम.एस.सी. नर्सिंग की छात्रा कीर्तिका, श्रष्टि एवम् जान्हवी नेगी ने सरस्वती वंदना से कार्यक्रम को आगे बढ़ाया।
दो दिवसीय सेमीनार के पहले दिन डाॅ अजय कुमार खण्डूड़ी ने कहा कि स्वास्थ्य सुविधाओं में अस्पताल, डाॅक्टर और नर्सिंग प्रोफेशनल समान रूप से महत्वपूर्णं हैं। स्वास्थ्य के बुनियादी ढ़ांचे को मजबूत करने और उसे शिखर तक पहुंचाने में इनकी महत्ती भूमिका है। स्वास्थ्य देखभाल प्रणांली में गुणवत्ता सुधार वर्तमान समय की मांग है। देश में इस मांग को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़़े हर वर्ग हर व्यक्ति हर संस्था को आगे आकर अपनी भूमिका निश्चित करनी होगी।  एसजीआरआर नर्सिंग काॅलेज की डीन डॉ रामालक्ष्यमी ने श्री गुरु राम राय विश्वविद्यालय के कुलपति डाॅ यशबीर दीवान का विशेष रूप से आभार व्यक्त किया। जिनके मागदर्शन से कार्यक्रम का आयोजन हुआ। इस अवसर कार्यक्रम में एक स्मारिका का विमोचन भी किया गया।
मुख्य वक्ता प्रो. जेबासिलि, ई.एस. काॅलेज ऑफ नर्सिंग चेन्नई ने स्वास्थ्य देखभाल प्रणांली के उद्देश्यों को रेखांकित किया। डाॅ पीकेश, प्राचार्य, राजकीय नर्सिंग काॅलेज, फरीदाबाद ने गुणवत्ता सुधार की विधियों के विभिन्न आयामों को समझाया। सोनम कालरा, एसोसिएट प्रोफसर, भूमानंद काॅलेज ऑफ नर्सिंग हरिद्वार ने गुणवत्ता सुधार के महत्व की बारीकियों पर प्रकाश डाला। नेशनल सेमीनार को सफल बनाने में अर्चना मलेठा, कीर्ति हरजाई, जूलिया मसीह, शिबा फिलिप, आरती नेगी, कंचन,रंजना, रेचल प्रसाद रश्मि,रचना, दिनेश्वरी चानू, ब्लेसी आदि का विशेष सहयोग रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fapjunk